सोमवार, 20 अगस्त 2012

My ghazal published in "SAHAAFAT" daily on 25.3.2012


उनसे मिलकर ये बात पूछूंगा                    Unse milkar ye baat poochhoonga
 कैसे पाऊं निशात पूछूंगा                        Kaise paaun nishaat poochhoonga


मेरी बीनाई तो सलामत है                           Meri beenaai to salaamat hai
दिन क्यों लगता है रात पूछूंगा                  Din kyu lagta hai raat poochhoonga


ईद तो कब की हो चुकी मेरी                           Eid to kab ki ho chuki meri 
कब है शब्बे-बरात पूछूंगा                    Kab hai shabbe-baraat poochhoonga 


मैं हूं नज़रों के जाम पर ज़िंदा                   Main hu nazron ke jaam par zinda
 क्या है आबे-हयात पूछूंगा                     Kya hai aabe-hayaat poochhoonga 


जब से बिछड़ा हूं उन से सूनी सी                 jab se bichhda hu unse sooni si
 क्यों लगे कायनात पूछूंगा                       Kyu lage kaaynaat poochhoonga 


हुस्न के अपने इस ख़ज़ाने की                       Husn ke apne is khazaane ki
 क्यों न देते ज़कात पूछूंगा                      Kyu na dete zakaat poochhoonga 


बाज़ी-ए-आशिक़ी में ’शमसी’ को                    Baazi-e-ashiqi me 'shamsi' ko 
क्यों हुई है ये मात पूछूंगा ।                    kyu hui hai ye maat poochhoonga. 


---मुईन शमसी                                                         ---Moin Shamsi 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें