मंगलवार, 2 अगस्त 2011

रमज़ान आ गया (RAMZAAN AA GAYAA) [All rights are reserved]

( To listen this kalaam-e-Ramzaan, visit: http://www.box.net/files#/files/0/f/0/1/f_847520109 )

( इस कलाम-ए-रमज़ान को सुनने के लिये इस लिंक पर तशरीफ़ लाएं: http://www.box.net/files#/files/0/f/0/1/f_847520109 )

RAMZAAN AA GAYAA SUNO RAMZAAN AA GAYAA,

BAARAH MAHEENO KA HAI YE SULTAAN AA GAYAA.

HAR SHAKHS TILAAWAT-O-TARAAWEEH ME HAI MASROOF,

ALLAH KE GHAR HAR EK MUSALMAAN AA GAYAA.

BEHKA SAKEGA NA KISI MOMIN KO IN DINO,

AB EK MAAH KI QAID ME SHAITAAN AA GAYAA.

AHKAAM-E-ILAAHI SABHI DUNIYA KO SUNAANE,

IS MAAHE MUQADDAS ME YE QUR-AAN AA GAYAA.

HAASIL KARO DARJE, KARO KASRAT SE IBAADAT,

HAR GHAR ME YE ALLAH KA FARMAAN AA GAYAA.

JAB TAK RAHEGA GHAR MERE BARKAT BADHAAYEGA,

MAAHE SIYAAM BAN KE WO MEHMAAN AA GAYAA.

GHAAFIL THA JO EEMAAN SE, MUDDAT SE WO DEKHO,

AAJ HAQ KI RAAH ‘SHAMSI’-E-NAADAAN AA GAYAA.

रमज़ान आ गया, सुनो, रमज़ान आ गया

बारह महीनों का है यह, सुल्तान, आ गया

हर शख़्स तिलावत-ओ-तरावीह में है मसरूफ़

अल्लाह के घर हर-एक मुसलमान आ गया

बहका सकेगा ना किसी मोमिन को इन दिनों

अब एक माह की क़ैद में शैतान आ गया

अहकाम-ए-इलाही सभी दुनिया को सुनाने

इस माह-ए-मुक़द्दस में यह क़ुर-आन आ गया

हासिल करो दर्जे करो, कसरत से इबादत

हर घर में यह अल्लाह का फ़रमान आ गया

जब तक रहेगा घर मेरे, बरकत बढ़ाएगा

माह-ए-सियाम बन के वो मेहमान आ गया

ग़ाफ़िल था जो ईमान से, मुद्दत से, वो देखो

आज हक़ की राह ’शमसी’-ए-नादान आ गया ।


8 टिप्‍पणियां:

  1. शनिवार 21/07/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. badey shauq se lagaaiye. magar mera naam aur iske saath diye gaye link bhi lagaayen. shukria.

      हटाएं
  2. रमजान सबको मुबारक हो..
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. रमज़ान की मुबारकबाद ... बेहतरीन प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं