मंगलवार, 16 अगस्त 2011

Dua : Tu kareem hai (All rights are reserved.) दुआ : तू करीम है (सर्वाधिकार सुरक्षित)

तू करीम है तो करम ये कर, मेरी ज़िंदगी तू संवार दे
जो ख़िज़ां के साए से दूर हो, मुझे ला-ज़वाल बहार दे

रहूं जब तलक मैं जहान में, शब-ओ-रोज़ तेरा ही नाम लूं
कि जहां से जाऊं मैं जब गुज़र, मेरी रूह को तू क़रार दे

है गिरा हुआ सजदे में ये बशर, करे तुझसे एक ही इल्तिजा
हो तेरा करम तो ये ज़िंदगी, यूं ही नेकियों में गुज़ार दे

मेरे दिल में तेरा ही ख़ौफ़ है, मैं तो राह-ए-हक़ पे हूं गामज़न
न रुकेंगे अब मेरे ये क़दम, कोई दर्द मुझको हज़ार दे

हो कभी जो ज़रूरत जान की, तो जुनून दिल में वो भर मेरे
कि ’मुईन’ अपनी ये जान भी, तेरे नाम पे ही निसार दे ।
---मुईन शमसी

( इस दुआ को मेरी आवाज़ में सुनने के लिये इस लिंक पर तशरीफ़ ले जाएं :
http://www.box.net/shared/eoxob0qkxq5ysbqziuyi )

-------------------------------------------------------

Tu kareem hai to karam ye kar, meri zindgi tu sanwaar de
jo khizaaN ke saaye se door ho, mujhe laa-zawaal bahaar de

rahu jab talak mai jahaan me, shab-o-roz tera hi naam lu
ki jahaaN se jaau mai jab guzar, meri rooh ko tu qaraar de

hai gira hua sajde me ye bashar, kare tujhse ek hi iltija
ho tera karam to ye zindgi, yu hi nekiyo me guzaar de

mere dil me tera hi khauf hai, mai to raah-e-haq pe hu gaamzan
na rukenge ab mere ye qadam, koi dard mujhko hazaar de

ho kabhi jo zaroorat jaan ki, to junoon dil me wo bhar mere
ki 'Moin' apni ye jaan bhi, tere naam pe hi nisaar de.
---Moin Shamsi

( To hear this dua in my voice, visit the following link:
http://www.box.net/shared/eoxob0qkxq5ysbqziuyi )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें